टाइटल टैग क्या है | Title Tag in hindi

टाइटल टैग क्या है, किस तरह से optimize करें (Title tag in hindi) (Length, generator, optimizations)


जैसे डोक्टरों को डॉक्टर, इंजिनियरों को इंजिनियर का टैग दिया जाता है, वैसे ही किसी भी ब्लॉग को टाइटल टैग दिया जाता है. जैसे किसी व्यक्ति का नाम उसके लिए महत्वपूर्ण होता है, क्यूंकि उसी से उसकी पहचान होती है, वैसे ही किसी भी आर्टिकल ब्लॉग पोस्ट, पेज के लिए उसका टाइटल टैग बहुत important होता है, क्यूंकि वो टाइटल ही बताता है कि आर्टिकल में क्या है, किस बारे में आर्टिकल में लिखा है. SEO की नजर में टाइटल की कितनी अहमियत है, यह कैसे और कितना बड़ा होना चाहिए आज हम अपने आर्टिकल द्वारा आपको यही बताने जा रहे है. साथ ही आपको बतायेंगें कि कैसे आप टाइटल टैग को optimize किया जा सकता है. आर्टिकल को अच्छे से ध्यान से पढ़ें, ताकि उसे अच्छे से समझ कर आप भी अपने पोस्ट में उस ट्रिक को अपना सकें.

title tag kya hai in hindi

टाइटल टैग क्या होता है (What is title tag) –

टाइटल का उपयोग HTML डाक्यूमेंट्स को समझाने के लिए किया जाता है. किसी भी वेबपेज में एक हैडर सेक्शन होता है, जहाँ टाइटल लिखा जाता है. टाइटल टैग को किसी भी तरह की साईट में उपयोग किया जाता है, इसके बिना साईट में पोस्ट करने से आपको कोई फायदा नहीं मिलेगा. किसी भी पोस्ट का टाइटल यूजर को ब्राउज़र में दिखाई देता है. टाइटल टैग बहुत जरुरी एलिमेंट है, जो सर्च इंजिन को पोस्ट समझने में मदद करता है. टाइटल को पढ़ कर ही सर्चिंग कीवर्ड के अनुसार आपके पेज को रैंकिंग मिलेगी. इसी से आपके पेज में organic ट्रेफिक आता है. हर वेब पेज, पोस्ट में जो टाइटल होते है वो पूरी तरह यूनिक होते है, अगर आप अपनी साईट में एक ही तरह के टाइटल को हर पोस्ट में उपयोग करते है, तो आज ही इसे बदल दे, यह एक मुख्य कारण हो सकता है जिसकी वजह से आपकी साईट में ट्रेफिक नहीं आ रहा है.

टाइटल टैग क्यूँ जरुरी है (Title tag importance)

एक ब्लॉगर के लिए अपनी साईट में में ट्रेफिक लाना बिलकुल आसान नहीं होता है, वो SEO के अनुसार कुछ न कुछ optimization करता रहता है जिससे उसको सर्च इंजिन में अच्छी रैंकिंग मिले. On page SEO में टाइटल टैग और मेटा description दो बहुत जरुरी element है. किसी भी पेज को डिफाइन करने का कार्य टाइटल टैग करता है, जिस तरह किसी भी आर्टिकल में कीवर्ड, इंटरनल लिंक, एक्सटर्नल लिंक, हैडिंग टैग्स, formatting आदि की अहमियत है उसी तरह टाइटल टैग भी बहुत जरुरी है.

टाइटल टैग कैसे सर्च होता है (How title tag search in search engine)  –

जब भी आप किसी टॉपिक या कीवर्ड को सर्च इंजन में सर्च करते है, तो आपको बहुत सारे वेबसाइट की लिंक दिखाई देगी. जिस कीवर्ड को आपने सर्च किया है, उसी से रिलेटेड लिंक आपके सामने दिखाई देंगें. सर्च इंजन में जो ब्लू रंग से दिखाई देता है वो टाइटल टैग होता है, उसी के जस्ट नीचे जो लाइट कलर से लिखा हुआ डाटा होता है, उसे Meta description कहते है. आप चाहे तो मेटा टाइटल टैग (Meta title tag) और Meta description में अलग से कुछ टाइटल और मेटा सेट कर सकते है, ऐसा करने से सर्च इंजन में सेट वाला ही टाइटल और मेटा दिखाई देगा. अगर आपने सेट नहीं किया है तो, सर्च इंजन आपके पोस्ट का नोर्मत टाइटल उठा कर उसे ही टाइटल शो करेगा. इससे आपकी साईट की रैंकिंग में सुधार होता है, गूगल आपकी साईट को SEO की नजर में अच्छी रैंकिंग देगा.

टाइटल टैग कहाँ – कहाँ दिखाई देता है –

वेब पेज में जाने वाला टाइटल टैग मुख्य रूप से तीन जगह दिखाई देता है –

  • SERPs Page
  • Web browser
  • सोशल नेटवर्किंग साइट्स

टाइटल टैग को ऑप्टिमाइज़ कैसे करें (Title tag optimization in hindi) –

आपको हमने बताया है कि अगर आप अपने किसी भी पोस्ट में Meta title tag और Meta description अच्छे से नहीं बताएँगे तो कोई भी सर्च इंजन by default आपके आर्टिकल पोस्ट में से सर्चिंग कीवर्ड के अनुसार कोई भी लाइन को उठाकर उसे एक टाइटल बना कर शो कर देगा, यह SEO के रूल्स के अनुसार बिलकुल गलत है. अगर आप अपनी वेबसाइट की अच्छी रैंकिंग बनाना चाहते है तो आपको सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन के अनुसार आपको इसे बनाना जरुरी है.

  • आप अपने ब्लॉग में सुनिश्चित करें की Meta title tag और Meta description को SEO के अनुसार उसे सेट करके ही डालें, ऐसा करने से सर्च इंजन सेट टाइटल और मेटा को ही सर्च रिजल्ट में शो करेगा.
  • टाइटल में जरुरी कीवर्ड को डालना बहुत जरुरी है, इसमें उसी कीवर्ड को डालना चाहिए जो आपके आर्टिकल का मुख्य टॉपिक है. इस कीवर्ड से सर्च रिजल्ट में अच्छी रैंकिंग मिलेगी.

मेटा टाइटल को कैसे सेट करें (How to set Meta title tag) –

  • मेटा टाइटल को सेट करने के लिए आपको अलग से प्लगइन (Plugin) इनस्टॉल करना होगा, इसी के द्वारा आप word press में अच्छे से टाइटल सेट कर सकते है. आप मेटा टाइटल के लिए Yoast pluginको इनस्टॉल करें, और उसे एक्टिवेट करें.
  • यहाँ आप जब किसी भी आर्टिकल को पब्लिश करने के पहले एडिट करेंगें, तो वहां आपको word press पोस्ट एडिटर पेज में ही टाइटल सेट करने के लिए एक बॉक्स दिखाई देगा.
  • यहाँ आपको टाइटल और मेटा description दोनों को अलग अलग सेट करने का विकल्प होता है. जिसे SEO title भी कहते है.

टाइटल टैग को सेट करने समय इन बातों को ध्यान में रखें –

  • कीवर्ड की importance एक ब्लोगर बहुत अच्छे से जानता है. अगर आप बहुत अच्छा बड़ा सा भी आर्टिकल लिख देते है, लेकिन इसमें आपने अगर कीवर्ड ऐड नहीं किये है तो यह वैसा ही जैसे अच्छा दिखने वाला खाना लेकिन बिना नमक का. इसलिए जब भी आर्टिकल डालें उसके मेटा टाइटल एवं description में मुख्य कीवर्ड को डालें.
  • मेटा टाइटल बनाते समय यह भी ध्यान रखें कि आप बहुत ज्यादा अपने टाइटल में कीवर्ड stuffing नहीं करें, इससे एक तो टाइटल की length बहुत ज्यादा हो जाएगी, और पढने में भी क्लियर नहीं लगेगा. टाइटल में आप जरुरी कीवर्ड की डालें जिससे वो natural लगे, साथ ही यूजर पढ़ कर उसे समझ सके और आपकी साईट में जाकर उसे पढ़े.
  • मेटा टाइटल की लम्बाई पर भी आपको बहुत ध्यान देना होगा, क्यूंकि यह ज्यादा लम्बा या छोटा नहीं होना चाहिए. गूगल एक फिक्स्ड length तक ही शो करता है, इसे इसका विशेष ध्यान रखें.
  • आप जब yoast प्लग इन में मेटा और टाइटल डालेंगें तो अगर लेंग्थ सही होगी तो ग्रीन शो होगा, नहीं तो वहां रेड आ जायेगा.
  • एक बात का और विशेष ध्यान रखें कि जो भी जरुरी कीवर्ड है उसे टाइटल में शुरुवात में ही लिखे, पीछे नहीं, क्यूंकि कई बार गूगल शुरू के ही कीवर्ड दिखाता है.
  • टाइटल किसी भी आर्टिकल का मुख्य द्वार या आकर्षण का केंद्र होता है, अगर ये eye caching होगा तो यूजर इसे पढ़ कर खुद ब खुद आपकी वेबसाइट में इंटर करेगा और आपकी साईट का ट्रैफिक बढेगा.

Title Tag SEO Optimizations length –

टाइटल टैग कैसा कितना बड़ा होना चाहिए इसके लिए सभी सर्च इंजन की अलग अलग रूल्स और गाइडलाइन है. आप जिस सर्च इंजन में अपनी रैंकिंग चाहते है उसके अनुसार अपने आर्टिकल में उसको फॉलो करके सेट है. आप एक ही पोस्ट में सभी सर्च इंजन के अनुसार बदलाव नहीं कर सकते है क्यूंकि इससे पोस्ट में खिचड़ी बाद जाएगी और कुछ भी क्लियर नहीं होगा.

  • गूगल सर्च इंजन में टाइटल की लेंग्थ को 60 – 65 शब्द के लिए सेट किया गया है.
  • Bing सर्च इंजन एवं याहू सर्च इंजन दोनों में में टाइटल की लेंग्थ को 65 – 70 तय किया गया है.

How to write unique title tag –

अगर आपकी पोस्ट का टाइटल अन्य किसी साईट के टाइटल या आपकी ही साईट के अन्य पोस्ट से बिलकुल मेल खाते है तो वह duplicate title हो जायेगा. इससे आपकी साईट को सर्च इंजन में अच्छी रैंकिंग नहीं मिलेगी. आप टाइटल बनाने से पहले सर्च इंजन में भी जाकर चेक कर सकते है कि किस तरह के टाइटल पहले से सर्च इंजन में मौजूद है. फिर आप यूनिक टाइटल सोच समझ कर बना दें.

Free Title Optimization plugin –

  • Rank math
  • Yoast SEO plugin
  • All in SEO
  • Simple title tag

FAQ –

Q: टाइटल टैग की कितनी लेंथ होनी चाहिए?

Ans: गूगल के अनुसार 50-60 शब्द होने चाहिए.

Q: SEO पेज टाइटल क्या है?

Ans: ये HTML टाइटल है, जो किसी भी पोस्ट में सर्च इंजन में दिखता है.

Q: SEO टाइटल में क्या लिखना चाहिए?

Ans: जरुरी कीवर्ड

Post a comment

Previous Post Next Post